UP Lok Sabha Chunav 2024 : पहले बोला ना, फिर बोला हां.. आखिर अखिलेश यादव ने क्यों बदला फैसला

Apr 25, 2024 - 10:30
Apr 25, 2024 - 11:41
 0
UP Lok Sabha Chunav 2024 : पहले बोला ना, फिर बोला हां.. आखिर अखिलेश यादव ने क्यों बदला फैसला

समाजवादी पार्टी के नेता और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव गुरुवार को उत्तर प्रदेश के कन्नौज लोकसभा क्षेत्र से लोकसभा चुनाव के लिए अपना नामांकन दाखिल करेंगे। दोपहर 12 बजे अखिलेश अपना नामांकन दाखिल करेंगे। अब सवाल उठ रहा है कि क्या चौथे चरण के चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख यानी 24 अप्रैल से एक दिन पहले आज तक लोकसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा होने से पहले ही यह तय हो चुका था कि अखिलेश चुनाव लड़ेंगे। पहले नहीं... फिर हां... क्या है अखिलेश के कन्नौज टिकट में ट्विस्ट की पूरी कहानी और कब क्या हुआ?

21 अप्रैल तक इस पर सस्पेंस बना हुआ था कि चुनाव कौन लड़ेगा। 22 अप्रैल को अखिलेश ने तेज प्रताप यादव को टिकट दे दिया। 23 अप्रैल को कन्नौज के प्रमुख नेताओं ने फैसले पर पुनर्विचार की मांग की। उसी दिन अखिलेश यादव से चुनाव लड़ने की अपील की गई थी। इसके बाद अखिलेश यादव चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो गए। 24 अप्रैल को आधिकारिक तौर पर घोषणा की गई कि अखिलेश चुनाव लड़ेंगे।

कन्नौज में सपा के अखिलेश यादव और बीजेपी के सुब्रत पाठक एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे। जहां आज अखिलेश यादव अपना नामांकन दाखिल करेंगे, वहीं उनके खिलाफ बीजेपी के सुब्रत पाठक चुनाव लड़ेंगे। एक तरफ जहां अखिलेश सिर्फ कन्नौज ही नहीं बल्कि पूरे चुनाव में अपनी जीत का दंभ भर रहे हैं तो वहीं सुब्रत पाठक भी अखिलेश पर निशाना साधने में देर नहीं लगा रहे हैं।

अब सवाल उठ रहे हैं कि आखिर क्यों गए अखिलेश कन्नौज?

पहले दौर के चुनाव के बाद सपनों से पलायन? अखिलेश का दावा है कि पहले चरण का मतदान 19 अप्रैल को हुआ था। एसपी का दावा है कि वह पहले चरण की सभी 8 सीटों पर बीजेपी को कड़ी टक्कर दे रही है।

क्या अखिलेश की भी प्रधानमंत्री बनने की चाहत है? भारत गठबंधन ने अभी तक यह निर्णय नहीं लिया है। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या अखिलेश के मन में प्रधानमंत्री बनने की चाहत है?

कन्नौज में पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं का दबाव?

कन्नौज के पार्टी नेताओं ने भी अखिलेश पर वहां से चुनाव लड़ने का दबाव बनाया था। इन नेताओं ने लखनऊ में अखिलेश से मुलाकात की थी।

सपा के लिए इतना महत्वपूर्ण क्यों है कन्नौज?

1998 से 2014 तक सपा सत्ता में थी। 1998 में सपा के प्रदीप कुमार यादव जीते, 1999 में मुलायम सिंह यादव जीते, 2000 के उपचुनाव में अखिलेश यादव जीते, 2004 में अखिलेश यादव जीते, 2009 में अखिलेश फिर जीते, 2014 में फिर से जीते। डिंपल यादव जीत गईं. 2019 में डिंपल यादव हार गईं और सुब्रत पाठक जीत गए।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow